logo
63 साल पहले समुद्र के अंदर कुछ यूं फटा था परमाणु बम, रोंगटे खड़े कर देने वाला वीडियो वायरल

इस दिल दहला देने वाले वीडियो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर Figen नाम की आईडी से शेयर किया गया है. एक मिनट 24 सेकेंड के इस वीडियो को अब तक 6.7 मिलियन यानी 67 लाख बार देखा जा चुका है, जबकि हजारों लोगों ने वीडियो को लाइक भी किया है.

 
jalsa news

परमाणु बम दुनिया के सबसे खतरनाक हथियारों में से एक है, जो सिर्फ और सिर्फ तबाही ही लाता है. एक परमाणु बम के अंदर इतनी ताकत होती है कि वह पूरे शहर को बर्बाद कर सकता है. इसका पहला उदाहरण 6 अगस्त, 1945 को देखने को मिला था जब अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा शहर पर परमाणु बम गिराया था. कहा जाता है कि जब बम शहर के बीचों-बीच फटा तो वहां का तापमान अचानक ही 10 लाख सेंटीग्रेड पहुंच गया था. इस बम की भयावहता का अंदाजा आप इस बात से भी लगा सकते हैं कि एक पल में हिरोशिमा की कुल आबादी 2 लाख 50 हजार के 30 फीसदी यानी 80 हजार लोग काल के गाल में समा गए थे. सोशल मीडिया पर आजकल एक परमाणु बम के फटने का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे देख कर हर कोई दंग रह गया है.परमाणु बम दुनिया के सबसे खतरनाक हथियारों में से एक है, जो सिर्फ और सिर्फ तबाही ही लाता है. एक परमाणु बम के अंदर इतनी ताकत होती है कि वह पूरे शहर को बर्बाद कर सकता है. इसका पहला उदाहरण 6 अगस्त, 1945 को देखने को मिला था जब अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा शहर पर परमाणु बम गिराया था. कहा जाता है कि जब बम शहर के बीचों-बीच फटा तो वहां का तापमान अचानक ही 10 लाख सेंटीग्रेड पहुंच गया था. इस बम की भयावहता का अंदाजा आप इस बात से भी लगा सकते हैं कि एक पल में हिरोशिमा की कुल आबादी 2 लाख 50 हजार के 30 फीसदी यानी 80 हजार लोग काल के गाल में समा गए थे. सोशल मीडिया पर आजकल एक परमाणु बम के फटने का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे देख कर हर कोई दंग रह गया है.

दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो 63 साल पहले यानी साल 1958 का है, जब समुद्र के अंदर एक परमाणु बम का परीक्षण किया गया था. जानकारी के मुताबिक, यह परीक्षण अमेरिका ने किया था. वैसे तो यह छोटा परमाणु बम था, लेकिन इसका ताकत जबरदस्त थी. इस परीक्षण को अमेरिका ने वाहू (Wahoo) कोड नेम दिया था. यह परीक्षण मार्शल द्वीप समूह में किया गया था. परमाणु बम को समुद्र के अंदर करीब 500 फीट की गहराई में लगाया गया था, लेकिन जब यह फटा तो ऐसा लगा जैसे यह समुद्र के एकदम ऊपर ही फटा हो|