logo
रक्षाबंधन पर हरियाणा सरकार ने महिलाओं के लिए फ्री की यात्रा, 10-11 अगस्त को बस में महिलाओं के साथ बच्चो का भी नही लगेगा किराया
 
raksha bandhan

रक्षाबंधन के मौके पर हरियाणा सरकार ने महिलाओं को तोहफा दिया है. हरियाणा सरकार ने ऐलान किया है कि महिलाएं 10 अगस्त को दोपहर 12 बजे के बाद से राज्य को रोडवेज बसों में फ्री में यात्रा कर सकेंगी. हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि सरकार ने महिलाओं को रक्षाबंधन का तोहफा देते हुए इस वर्ष भी हरियाणा परिवहन की बसों में मुफ्त यात्रा सुविधा प्रदान करने का निर्णय लिया है ताकि बहनें अपने भाइयों के घर जाकर राखी बांध सकें.

परिवहन मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस आशय के एक प्रस्ताव को आज स्वीकृति प्रदान कर दी है. उन्होंने बताया कि यात्रा की सुविधा 10 अगस्त, 2022 को दोपहर 12 बजे से शुरू होगी और 11 अगस्त, 2022 रक्षाबंधन के दिन मध्य रात्रि 12 बजे तक रहेगी. यह सुविधा साधारण और स्टैन्डर्ड बसों में दी जाएगी.

दरअसल हरियाणा सरकार ने रक्षाबंधन के त्योहार पर महिलाओं को इस बार भी मुफ्त बस यात्रा की सहुलियत देने जा रही है. खट्टर सरकार की तरफ से हर साल महिलाओं को मुफ्त यात्रा का तोहफा दिया जाता है. जारी आदेश के अनुसार इस दिन महिलाएं अपने साथ 15 साल तक के बच्चों के साथ बिना की भुगतान के यात्रा कर सकेंगी.

यह रहेगा मुफ्त यात्रा का समय

हरियाणा सरकार में परिवहन मंत्री पंडित मूलचंद शर्मा ने ऐलान किया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस बार भी रक्षाबंधन के दिन महिलाओं को बसों में मुफ्त यात्रा करने की मंजूरी दी है. उन्होंने बताया कि यह मुफ्त यात्रा की सुविधा 10 अगस्त को दोपहर 12 बजे से शुरू होकर 11 अगस्त (रक्षाबंधन के दिन) को मध्य रात्रि 12 बजे तक लागू रहेगी. पंडित मूलचंद शर्मा ने बताया कि यह सुविधा साधारण और स्टैंडर्ड बसों में ही मिलेगी.

15 साल तक के बच्चों की भी यात्रा मुफ्त

परिवहन मंत्री ने बताया कि हमारा विभाग पिछले कई सालों से रक्षाबंधन के मौके पर राज्य की महिलाओं को यह सुविधा दे रहा है, ताकि उन्हें अपने प्रियजनों तक पहुंचने में कोई दिक्कत का सामना न करना पड़े. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही वह 15 साल तक के बच्चों को भी अपने साथ लेकर मुफ्त यात्रा का लाभ उठी सकती हैं. हालांकि कोविड-19 महामारी के दौरान इसकी अनुमति नहीं दी गई थी. मंत्री ने कहा कि इस समय कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट दर्ज की गई है, इसलिए इस सुविधा को लागू करने का निर्णय सरकार ने लिया है.