logo
बॉलीवुड की वह बदनाम फिल्म, जिसमें रेखा ने सिखाया था सेक्X, नाम छुपाकर गुपचुप तरीके से की गई थी शूटिंग
 
rekha

बॉलीवुड में ऐसी कई फ़िल्में आई हैं, जिन्हें पाकिस्तान ने अपने यहां नहीं चलने दिया। लेकिन कुछ फ़िल्में ऐसी भी हैं, जिन्हें पाकिस्तान के साथ-साथ भारत में भी बैन कर दिया गया था और ऐसी ही एक फिल्म है 'कामसूत्र : अ टेल ऑफ़ लव'। 1996 में आई 'कामसूत्र...' हिस्टोरिकल इरोटिक रोमांस फिल्म थी, जिसे मीरा नायर ने डायरेक्ट किया था। फिल्म में एवरग्रीन दिवा रेखा सेक्स गुरु के किरदार में दिखाई दी थीं। हमारी स्पेशल सीरीज 'अ फ्राइडे फ्रॉम द पास्ट' की आज की कड़ी में हम आपको इसी फिल्म से जुड़े रोचक तथ्य बता रहे हैं, पढ़ें स्लाइड्स....

बताया जाता है कि फिल्म की शूटिंग के दौरान जब भारत सरकार के कुछ आधिकारियों को जब इसके कंटेंट के बारे में पता चला तो फिल्म के डायरेक्टर और प्रोड्यूसर्स ने उन्हें रिश्वत दी थी, ताकि किसी तरह के विवाद से बच सकें।

दावा यह भी किया जाता है कि भारत में इस फिल्म का निर्माण नकली टाइटल 'तारा एंड माया' के साथ हुआ था और अगर इंडियन अथॉर्टीज को इसका असली नाम पता चलता तो वे इसकी शूटिंग कभी नहीं होने देते।

बताया जाता है कि जब फिल्म की शूटिंग चल रही थी, तब सरकार के अधिकारी सेट पर जाकर चेकिंग करते थे। इस दौरान फिल्म के कलाकार न्यूडिटी और सेक्सुअलिटी वाले सीन्स की बजाय नकली सीन शूट करने लगते थे।

फिल्म में इंदिरा वर्मा ने माया और सरिता चौधरी ने राजकुमारी तारा का रोल निभाया था। नवीन एंड्रूज, रमन तिलकराम, अविजीत दत्त, रेखा, हरीश पटेल और जोया अख्तर की फिल्म में महत्वपूर्ण भूमिका थी। 

2004 में एक बातचीत में फिल्म में अपने न्यूड सीन को लेकर सरिता चौधरी ने कहा था, "मैं किस्मत वाली थी कि मुझे एक महिला निर्देशक मिली। फिल्म में वास्तविक न्यूडिटी इसकी सेसुअलिटी से कम थी। मीरा को ऐसी इमेज बनाने में महारत हासिल है, जिससे न्यूडिटी का कन्फ्यूजन हो सकता है। मैं तभी न्यूड सीन करने में यकीन रखती हूं, जब मुझे डायरेक्टर पर भरोसा होता है। आमतौर पर मैं पूरी तरह से आश्वस्त होने से एक दिन पहले तक इस तरह के सीन के लिए इनकार करती हूं। क्योंकि मेरे अंदर डर होता है। जब मैं फ्रेंच फ़िल्में देखती हूं तो मुझे लगता है कि दूसरे कल्चर में यह कितनी आम बात है।"

इंदिरा वर्मा की यह पहली फिल्म थी। उन्होंने एक बातचीत में कहा था, "जब हम इसकी शूटिंग कर रहे थे, तब इसे कामसूत्र नहीं कहा जाता था। इसका टाइटल तय नहीं हुआ था। इसकी स्क्रिप्ट में कहा गया था कि वे प्यार पर फिल्म बना रहे हैं। जब आप युवा होते, भोले और बेवकूफ होते हैं तो आपको पता नहीं होता कि आप क्या कर रहे हैं। इंदिरा ने बताया था कि जब फिल्म की शूटिंग के बाद उनकी पिता से फोन पर बात हुई तो वे रो पड़ीं। इस पर उनके पिता ने तसल्ली दी कि कोई बात नहीं, इसमें कम से कम सेक्स तो नहीं है। इंदिरा के मुताबिक़, उन्होंने अपने पिता को फिल्म के कंटेंट के बारे में कभी नहीं बताया और उनके पिता ने भी यह फिल्म कभी नहीं देखी।
 

बताया जाता है कि फिल्म का प्लॉट ऑथर वाजिदा तवस्सुम की कहानी 'उतरन' से लिया गया था।  रेखा की यह पहली इंग्लिश फिल्म थी और कई रिपोर्ट्स में ऐसे कयास लगाए गए थे कि उन्होंने फिल्म में बोल्ड सीन दिया है। 

फिल्म 11 सितम्बर 1996 को टोरंटो फिल्म फेस्टिवल में दिखाई गई थी और इसके बाद 28 फ़रवरी 1997 को इसे अमेरिका में रिलीज किया गया था। इरोटिक सीन्स के चलते इस फिल्म को भारत और पाकिस्तान में बैन कर दिया गया था।