इस साल अब तक 22 प्रतिशत बढ़ी गेहूं की थोक कीमतें, अगले साल नरमी संभव

इस साल गेहूं की थोक कीमतों में तेज बढ़त देखने को मिली है. पूरे भारत में गेहूं का औसत थोक मूल्य नवंबर में 22 प्रतिशत बढ़कर 2,721 रुपये प्रति क्विंटल हो गया. इस साल जनवरी में यह 2,228 रुपये प्रति क्विंटल था. सरकारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है. कीमतों में बढ़त रूस और यूक्रेन संकट के साथ साथ इस साल गर्मी की जल्द शुरुआत की वजह से फसल पर पड़ने वाला असर के कारण दर्ज हुई है. वहीं कीमतों में अगले साल नरमी की संभावना है क्योंकि इस साल गेहूं की बुवाई पिछले साल के मुकाबले बढ़ी है और किसानों ने ऐसे बीजों का ज्यादा इस्तेमाल किया है जिससे मिलने वाली फसल ज्यादा तापमान में भी रह सकती हैं.

आंकड़ों के अनुसार, गेहूं का अखिल भारतीय मासिक औसत थोक मूल्य जनवरी में 2,228 रुपये प्रति क्विंटल, फरवरी में 2,230 रुपये, मार्च में 2,339 रुपये, अप्रैल में 2,384 रुपये, मई में 2,352 रुपये, जून में 2,316 रुपये, जुलाई में 2,409 रुपये प्रति क्विंटल, अगस्त में 2,486 रुपये, सितंबर में 2,516 रुपये, अक्टूबर में 2,571 रुपये और नवंबर में 2,721 रुपये प्रति क्विंटल था. अक्टूबर और नवंबर की कीमतें अस्थायी हैं. केंद्र ने कीमतों को नियंत्रित करने के लिए मई में गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था.

राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि गेहूं सहित कृषि उपज की कीमतें बाजार में मांग और आपूर्ति की स्थिति, अंतरराष्ट्रीय कीमतों आदि से निर्धारित होती हैं. मंत्री ने कहा, गेहूं का उत्पादन वर्ष 2020-21 में 10 करोड़ 95.9 लाख टन से घटकर 2021-22 में 10 करोड़ 68.4 लाख टन रह गया है और वर्ष 2021-22 में गेहूं की अखिल भारतीय उपज 3,521 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर से घटकर वर्ष 2021-22 में 3,507 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर रह गई है. इस गिरावट का कारण मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान जैसे प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्यों में मार्च और अप्रैल, 2022 के दौरान लू का चलना था. उन्होंने कहा कि वर्ष 2022-23 के रबी बाजार सत्र (अप्रैल-जून) में गेहूं की खरीद वर्ष 2021-22 के 433.44 लाख टन के मुकाबले घटकर 187.92 लाख टन रह गई, क्योंकि इस अवधि के दौरान गेहूं का बाजार मूल्य न्यूनतम समर्थन मूल्य से कहीं अधिक था.

कृषि मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, मौजूदा रबी (सर्दियों के सीजन) सत्र में गेहूं की बुवाई पिछले साल के मुकाबले बढ़कर 2 लाख हेक्टेयर पर पहुंच गई है. राजस्थान, बिहार और उत्तर प्रदेश में रबी की बुवाई बढ़ी है. रबी की मुख्य फसल गेहूं की बुवाई अक्टूबर में शुरू होती है। इसकी कटाई मार्च-अप्रैल में होती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *